सुभाष चंद्र बोस की जीवनी, जीवन परिचय और निबंध | Subhash Chandra Bose Biography

सुभाष चंद्र बोस की जीवनी (Subhash Chandra Bose Ki Jivani), नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म ओडिशा के कटक शहर में एक हिंदू कायस्थ परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम जानकीनाथ बोस और माता का नाम प्रभावती था। जानकीनाथ बोस कटक शहर के प्रसिद्ध वकील थे।

सुभाष चंद्र बोस की जीवनी (Subhash Chandra Bose Ki Jivani)

सुभाष चंद्र बोस की जीवनी (Subhash Chandra Bose Ki Jivani)
Netaji Subhash Chandra Bose

सुभाष चंद्र बोस ने ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा‘ और ‘जय हिंद‘ जैसे प्रसिद्ध नारे दिए, भारतीय प्रशासनिक सेवा की परीक्षा पास की, 1938 और 1939 में कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए, 1939 में फॉरवर्ड ब्लॉक का गठन किया। अंग्रेजों को देश से भगाने के लिए ‘आजाद हिन्द फौज‘ की स्थापना की।

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के बारे में संक्षिप्त तथ्य

नामसुभाष चंद्र जानकीनाथ बोस (Subhash Chandra Bose)
जन्म23 जनवरी 1897
जन्म स्थानकटक, उड़ीसा
पिताजानकीनाथ बोस
माताप्रभावती देवी
पत्नीएमिली शेंकल
बेटीअनीता बोस फाफ
संगठनआजाद हिन्द फौज,
आल इंडिया नेशनल ब्लॉक फॉर्वड,
स्वतंत्र भारत की अस्थायी सरकार
निधन18 अगस्त 1945, जापान

सुभाष चंद्र बोस को ‘नेताजी’ भी कहा जाता है। वह भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के एक प्रख्यात नेता थे। हालांकि देश की आजादी में योगदान का सबसे ज्यादा श्रेय महात्मा गांधी और नेहरू को दिया जाता है, लेकिन सुभाष चंद्र बोस का योगदान भी किसी से कम नहीं था।

सुभाष चंद्र बोस का बचपन और प्रारंभिक जीवन 

सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा के कटक शहर में हुआ था। उनके पिता जानकी नाथ बोस एक प्रख्यात वकील थे। प्रभावती और जानकी नाथ के 14 बच्चे, छह बेटियां और आठ बेटे थे। सुभाष उनमें नौवें स्थान पर थे। 

जानकी नाथ की वकालत ने लोगों को प्रभावित किया, पहले वे एक सरकारी वकील थे, उसके बाद उन्होंने अपनी निजी प्रैक्टिस शुरू की।

इसके बाद उन्होंने लंबे समय तक कटक नगर निगम में भी काम किया और वे बंगाल विधान सभा के सदस्य भी रहे। उन्हें अंग्रेजों ने राय बहादुर की उपाधि भी दी थी।

सुभाष चंद्र बोस की मां प्रभावती, एक बहुत मजबूत इरादों वाली, बुद्धिमान और चतुर महिला थी। सुभाष बचपन से ही पढ़ाई में होनहार थे, जिससे दसवीं की परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया था और स्नातक में भी प्रथम आये थे।

उन्होंने कलकत्ता के स्कॉटिश चर्च कॉलेज से दर्शनशास्त्र में स्नातक की उपाधि प्राप्त की। उसी समय, वह सेना में भर्ती हो रही थी और उन्होंने सेना में भर्ती होने के लिए प्रयास भी किया परन्तु आँख की रोशनी खराब होने के कारण उन्हें अयोग्य घोषित कर दिया गया।

वे स्वामी विवेकानंद के अनुयायी थे। अपने परिवार की इच्छा के अनुसार वर्ष 1919 में वे भारतीय प्रशासनिक सेवा की तैयारी के लिए इंग्लैंड में पढ़ने चले गए।

सुभाष चंद्र बोस को देशभक्ति विरासत में अपने पिता से मिली थी। जानकीनाथ एक सरकारी अधिकारी होते हुए भी कांग्रेस के अधिवेशनों में भाग लेते थे और जनसेवा के कार्यों में सक्रिय रूप से भाग लेते थे, आपको बता दें कि वे खादी, स्वदेशी और राष्ट्रीय शैक्षिक संस्थानों के पक्ष में थे।

नेताजी का राजनीतिक जीवन

उन्होंने 1920 में भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए आवेदन किया और न केवल इस परीक्षा में सफलता प्राप्त की बल्कि चौथा स्थान भी हासिल किया। वह जलियांवाला बाग हत्याकांड से बहुत परेशान थे और उन्होंने 1921 में प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा दे दिया।

भारत वापस आने के बाद नेताजी गांधीजी के संपर्क में आए और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए। उन्होंने गांधीजी के निर्देशानुसार देशबंधु चित्तरंजन दास के साथ काम करना शुरू किया। बाद में उन्होंने चित्तरंजन दास को अपना राजनीतिक गुरु बताया।

सुभाष बहुत जल्द अपनी सूझबूझ और मेहनत से कांग्रेस के प्रमुख नेताओं में शामिल हो गए। 1928 में जब साइमन कमीशन आया तो कांग्रेस ने इसका विरोध किया और काले झंडे दिखाए। 1928 में मोतीलाल नेहरू की अध्यक्षता में कांग्रेस का वार्षिक अधिवेशन कोलकाता में हुआ।

इस अधिवेशन में ब्रिटिश सरकार को ‘डोमिनियन स्टेटस’ देने के लिए एक साल का समय दिया गया था। उस दौरान गांधीजी पूर्ण स्वराज की मांग से सहमत नहीं थे। दूसरी ओर, सुभाष और जवाहरलाल नेहरू ने पूर्ण स्वराज की मांग से पीछे हटना स्वीकार नहीं किया।

1930 में उन्होंने इंडिपेंडेंस लीग का गठन किया। 1930 के ‘सविनय अवज्ञा’ आंदोलन के दौरान सुभाष को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। 1931 में गांधीजी-इरविन समझौते के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया।

सुभाष ने गांधी-इरविन समझौते का विरोध किया और ‘सविनय अवज्ञा’ आंदोलन को रोकने के निर्णय से भी खुश नहीं थे।

सुभाष को जल्द ही ‘बंगाल अधिनियम’ के तहत फिर से कैद कर लिया गया। इस दौरान उन्हें करीब एक साल जेल में रहना पड़ा और बाद में बीमारी के चलते उन्हें जेल से रिहा कर दिया गया।

उन्हें भारत से यूरोप भेजा गया। वहां उन्होंने भारत और यूरोप के बीच राजनीतिक और सांस्कृतिक संबंधों को बढ़ाने के लिए कई शहरों में केंद्र स्थापित किए। भारत से प्रतिबंधित होने के बावजूद वे भारत आ गए और परिणामस्वरूप उन्हें 1 वर्ष के लिए जेल जाना पड़ा।

1937 के चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी 7 राज्यों में सत्ता में आई और उसके बाद सुभाष को रिहा कर दिया गया। इसके कुछ ही समय बाद कांग्रेस के हरिपुरा अधिवेशन (1938) में सुभाष को अध्यक्ष चुना गया। सुभाष ने अपने कार्यकाल के दौरान ‘राष्ट्रीय योजना समिति’ का गठन किया। 1939 के त्रिपुरी अधिवेशन में सुभाष पुनः अध्यक्ष चुने गए।

इस बार सुभाष का मुकाबला पट्टाभि सीतारमैया से था। सीतारमैया को गांधीजी का पूरा समर्थन था, फिर भी सुभाष ने 203 मतों से चुनाव जीता। इस दौरान द्वितीय विश्व युद्ध के बादल भी कांपने लगे और सुभाष ने अंग्रेजों को 6 महीने में देश छोड़ने का अल्टीमेटम दिया।

सुभाष के इस रवैये का गांधीजी सहित कांग्रेस के अन्य लोगों ने विरोध किया, जिसके कारण उन्होंने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया और ‘फॉरवर्ड ब्लॉक’ की स्थापना की।

सुभाष ने द्वितीय विश्व युद्ध में अंग्रेजों द्वारा भारत के संसाधनों के उपयोग का कड़ा विरोध किया और इसके खिलाफ एक जन आंदोलन शुरू किया। उनके इस आंदोलन को जनता का जबरदस्त समर्थन मिल रहा था।

इसलिए उन्हें कोलकाता में कैद कर घर में नजरबंद रखा गया। जनवरी 1941 में सुभाष अपने घर से भागने में सफल रहे और अफगानिस्तान होते हुए जर्मनी पहुंचे। ‘दुश्मन ही दुश्मन है, दोस्त है’ की धारणा को देखते हुए उन्होंने जर्मनी और जापान से ब्रिटिश राज को भारत से बाहर निकालने में मदद की अपील की।

जनवरी 1942 में उन्होंने रेडियो बर्लिन से प्रसारण शुरू किया, जिससे भारत के लोगों का उत्साह बढ़ा। 1943 में वे जर्मनी से सिंगापुर आए। पूर्वी एशिया पहुंचकर उन्होंने रास बिहारी बोस से ‘स्वतंत्रता आंदोलन’ की कमान संभाली और आजाद हिंद फौज बनाकर युद्ध की तैयारी शुरू कर दी।

आजाद हिंद फौज की स्थापना मुख्य रूप से जापानी सेना द्वारा ब्रिटिश सेना से पकड़े गए युद्ध के भारतीय कैदियों के साथ की गई थी। इसके बाद सुभाष ‘नेताजी’ कहलाने लगे।

अब आजाद हिंद फौज ने भारत की ओर बढ़ना शुरू किया और सबसे पहले अंडमान और निकोबार को आजाद कराया। आजाद हिंद फौज ने 18 मार्च 1944 को बर्मा की सीमा पार की और भारतीय धरती को खतरे में डाल दिया।

द्वितीय विश्व युद्ध में जापान और जर्मनी की हार के साथ आजाद हिंद फौज का सपना पूरा नहीं हो सका।

नेताजी की मौत

ऐसा माना जाता है कि 18 अगस्त 1945 को ताइवान में एक विमान दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई लेकिन उनके दुर्घटना का कोई सबूत नहीं मिला। सुभाष चंद्रा की मृत्यु अभी भी विवाद का विषय है और भारतीय इतिहास का सबसे बड़ा संदेह है।

यह भी पढ़े –