राम नाम की महिमा, अद्भुत है राम नाम की शक्ति

राम नाम की महिमा (Ram Naam Ki Mahima): कहते हैं, संसार में राम नाम से बढ़कर कुछ भी नहीं है। यही एक सत्य नाम है। यहां तक भगवान शंकर भी हर समय राम राम ही जपते रहते हैं –

राम नाम की महिमा (Ram Naam Ki Mahima)

राम नाम की महिमा
Ram Naam Ki Mahima

अद्भुत है राम नाम की शक्ति

पार्वती जी के यह पूछने पर कि आप (शिवजी) हमेशा किसके ध्यान में रहते हैं और आपके इष्ट कौन हैं? इस पर श्री महादेव जी, पार्वती जी से कहते हैं-हे सुमुखी ! राम नाम विष्णु सहस्रनाम के तुल्य है। मैं हमेशा उन्हीं के नाम का स्मरण करता हूं। मनोरम राम नाम में ही रमण करता रहता हूं। वही मेरे इष्ट हैं। 

राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे। 
सहस्त्रनाम तत्तुयं रामनाम वरानने ।।

  • ‘रा’ उच्चारण करने से सारे पाप बाहर निकल जाते हैं, ‘म’ के उच्चारण से कपाट बंद हो जाते हैं, जिससे पाप फिर वापस नहीं आ सकता। 
  • यही नहीं राम नाम का जप करने से और लाल रंग की स्याही से श्रीराम का नाम लिखने से हनुमान जी भी प्रसन्न होते हैं। जिससे शनि के असहनीय प्रकोपों से राहत मिलती है। 
  • श्री राम का नाम लेने अथवा लिखने में इतनी शक्ति होती है कि मुश्किल से मुश्किल लगने वाले काम सरलता पूर्वक संपन्न हो जाते हैं। 
  • आनंद रामायणम के अनुसार, राम नाम जप की अपेक्षा 100 गुना अधिक पुण्य राम नाम लिखने में है। राम नाम लाल रंग की स्याही से लिखने से मन एकाग्र होता है तथा स्मरण शक्ति बढ़ती है। अगर आप सच्चे मन से भगवान राम का स्मरण कर राम नाम लिखते हैं, तो आपके सुखी जीवन की यह शुरुआत है। 

यह भी पढ़े – बगलामुखी साधना के लाभ, सर्वशक्ति संपन्न बगलामुखी साधना

Leave a Reply

Your email address will not be published.