प्याज के रस के फायदे, प्याज का रस कैसे बनाते हैं ?

प्याज के रस के फायदे (Pyaj Ke Ras Ke Fayde), प्याज का रस कैसे बनाते हैं ? प्याज के रस से बाल उगाना, प्याज के रस के हृदय रोग में फायदे – हर घर में मिलने वाली प्याज में बहुत सारे औषधीय गुण हैं। जिन्हें हम प्रयोग करके काफी हद तक रोगों और व्याधियों को अपने शरीर से दूर रख सकते हैं, तो चलिए जानते हैं कि प्याज में क्या है, और इसके रस को पीने के कितने फायदे हैं ?

प्याज के रस के फायदे (pyaj ke ras ke fayde)

प्याज के रस के फायदे (pyaj ke ras ke fayde)

प्याज का सेवन कैसे करे ?

वैज्ञानिक शोधों में पक्के तौर पर सिद्ध हो चुका है कि कटी प्याज दस मिनट के अंदर ही आसपास के सारे कीटाणु अवशोषित कर कर लेती है। और फिर वो कटी प्याज खाने से फूड पॉइजनिंग या कोई बड़ी बीमारी भी हो सकती है। इसलिए प्याज को काटने के बाद तुरंत खा लेना चाहिए, उसे देर तक खुला नहीं रखना चाहिए।

प्याज काटने के बाद उसे तुरंत सिरके (Vinegar) में डाल देने से प्याज़ की कीटाणु अवशोषित करने की क्षमता शून्य हो जाती है। परन्तु प्याज की अपनी पोषक क्षमता उसके अंदर बरक़रार रहती हैं। फिर आप कटी प्याज को देर तक रखने के बाद भी उपयोग कर सकते है। 

प्याज में पाए जाने वाले तत्व

प्याज में प्रचुर मात्रा में फोलेट, मैग्नीशियम, फास्फोरस, ओमेगा-3 फैटी एसिड, विटामिन बी -6,  विटामिन ए, सी व ई, जिंक, कैल्शियम, क्रोमियम, डाइटरी फाइबर, चीनी, सोडियम और पोटैशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। प्याज में क्वेरसेटिन नाम का एक बेहद जरूरी कंपाउंड पाया जाता है।

प्याज के गुण

प्याज में एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-कार्सिनोजेनिक, एंटीबैक्टीरियल, एंटी फंगल, एंटी-एलर्जिक, प्रभावशाली सेडेटिव, एनाल्जेसिक (दर्द निवारक) और हाइपोग्लाइसेमिक (ब्लड शुगर कम करने वाला) गुण मौजूद हैं। 

प्याज का रस कैसे बनाते हैं ?

अपनी आवश्यकता के अनुसार प्याज लें। प्याज को पानी के साथ पीसकर प्याज का रस तैयार करें। जब प्याज अच्छी तरह से पिस जाए, तो एक सूती कपड़े की सहायता से रस को एक गिलास में छान लें। अब प्याज का रस तैयार है, इसे आप पीने के लिए इस्तेमाल में ला सकते हैं।  

प्याज का रस पीने के लाभ 

प्याज का रस पीने से – हृदय रोग, डायबिटीज, वजन कम करना, जोड़ों में दर्द और सूजन, गंजेपन के इलाज, इम्युनिटी कि क्षमता बढ़ाने और स्किन से लेकर पीरियड्स में भी होते हैं फायदे। 

प्याज के रस से हृदय रोग में फायदे

जब शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा ज्यादा हो जाती है तब खून ले जाने वाली धमनियों की दीवारों में यह जमने लगता है जिससे धमनिया संकुचित होने लगती है और खून के प्रवाह में रुकावट आती है जिससे कई तरह की बीमारियां उत्पन्न होने लगती इसमें हृदय रोग सबसे अहम है।

जब जरूरत से ज्यादा पसीना आने लगे, पैरों में दर्द रहना, सांस फूलने की समस्या, मोटापा, सिर में दर्द, सीने में जलन और हाई ब्लड प्रेशर यह सभी लक्षण शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के है। अगर आपके शरीर में भी कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाए, तो आप दवाइयों के इस्तेमाल के साथ-साथ कुछ घरेलू उपाय भी कर सकते हैं जिनमें से एक प्याज का रस का है।

प्याज में क्वेरसेटिन नाम का एक कंपाउंड होता है जो कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करने में बहुत सहायक होता है। प्याज का रस शरीर में इन्फ्लेमेशन कम करने और धमनियों में संकुचन होने से भी रोकता है।

ह्रदय रोग में प्याज का सेवन कैसे करें ?

हृदय रोगी को प्याज का रस सुबह सुबह खाली पेट प्रतिदिन क्रमशः छोटी मात्रा(एक चम्मच) से लेकर शुरू करें और दिन ब दिन रस की मात्रा बढ़ाते जाए और एक कप तक जब पहुंच जाए तो उस मात्रा का सेवन लगातार करने से, 2 माह के अंतराल में धमनियों के संकुचन में आशातीत लाभ देखने को मिल सकता है।

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करें

जिन लोगों का ब्लड प्रेशर बढ़ा हो, उन्हें प्राथमिक उपचार के तौर पर प्याज का रस का दिया जा सकता है। क्योकि इसमें मौजूद मैग्नीशियम, ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए काफी सहायक होती है।

प्याज के रस से बाल उगाना

प्याज के जूस में मौजूद विटामिन-बी, बालों में जरूरी सीबम की मात्रा को मेंटेन रखने के लिए प्रभावी रूप से कार्य करता है। जो बालों को पुनः उगाने में सहायक होते है। और बालों से जुड़ी अनेक समस्याओं से स्कैल्प को सुरक्षित रखने में सहायक होते है।

यह भी पढ़े –