पालक खाने के फायदे, प्रेगनेंसी में पालक खाने के फायदे

पालक खाने के फायदे (Palak Khane Ke Fayde): पालक हरी सब्जियों में खाई जाने वाली प्रमुख सब्जी है। पालक को आप कच्चा खा सकते हैं, सब्जी के रूप में खा सकते हैं, सलाद या सूप बना कर पी सकते हैं। पालक विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन के, मैग्नीशियम, मैंगनीज और आयरन से भरपूर होता है। पालक खाने से आंखों की रोशनी में सुधार, ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस कम होता है और ब्लड प्रेशर सही रहता है। आइए जानते हैं पालक खाने के फायदे और नुकसान के बारे में।

Palak Khane Ke Faydeपालक खाने के फायदे

पालक खाने के फायदे
Palak Khane Ke Fayde

पालक के फायदे

पालक में पर्याप्त मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं। पालक खाने से शरीर में संक्रमण का खतरा कम हो जाता है और आप बीमार नहीं पड़ते। पालक खाने से हड्डियां मजबूत होती हैं, आंखों की रोशनी भी बढ़ती है, इसके अलावा और भी कई फायदे होते हैं।

यह भी पढ़े – जाने हजार मर्ज की एक दवा गन्ने का रस पीने के फायदे, गन्ना का जूस पीने के फायदे

1. हड्डियों को बनाता है मजबूत

हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए कैल्शियम सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व है, जो हड्डियों के निर्माण और विकास में मदद करता है तथा उन्हें मजबूत बनाता है। पालक में कैल्शियम और विटामिन K पाया जाता है, इसलिए पालक खाने से हड्डियां मजबूत होती हैं।

2. आंखों की रोशनी बढ़ाता है 

दरअसल, आंखों की रोशनी को स्वस्थ रखने के लिए गहरे हरे पत्तेदार साग का सेवन करने की सलाह दी जाती है, और पालक उनमे से एक है। पालक में विटामिन-ए और विटामिन-सी और ल्यूटिन और ज़ेक्सैंथिन नामक यौगिक पाया जाता है, जो आंखों में होने वाले रोग, मैकुलर डिजनरेशन के खतरे और मैक्युला में सुधार कर सकता है।

3. इम्यून सिस्टम होता है मजबूत

रोगमुक्त रहने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता का मजबूत होना बहुत जरूरी है। पालक विटामिन-ई और एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है और विटामिन E इम्युनिटी बढ़ाने का काम कर सकता है। इसलिए पालक खाने से शरीर में संक्रमण का खतरा कम हो जाता है और आप बीमार नहीं पड़ते।

4. प्रेगनेंसी में पालक खाने के फायदे

एनीमिया (शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी) का सबसे अधिक खतरा गर्भावस्था के दौरान देखने को मिलता है। यह स्थिति आयरन की कमी के कारण उत्पन्न हो सकती है। एनीमिया के खतरे को कम करने के लिए भरपूर मात्रा में आयरन की आवश्यकता होती है, जिसे पालक से पूरा किया जा सकता है।

5. ऊर्जा प्रदान करता है

एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार कैल्शियम का सेवन करने से शरीर की मांसपेशियों को आराम मिलता है और पालक में पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम और मैग्नीशियम नामक पोषक तत्व पाये जाते है। अगर आप दिन भर की मेहनत के बाद थकान महसूस करते हैं, तो मैग्नीशियम शरीर को ऊर्जा देता है। पालक खाने से बार-बार थकान की समस्या नहीं होती है।

6. एनीमिया – खून की कमी नहीं होती

जिन लोगों को खून की कमी होती है उनके लिए पालक खाना फायदेमंद होता है। पालक में पर्याप्त मात्रा में आयरन होता है इसलिए पालक के सेवन से एनीमिया नहीं होता है।

7. वजन कम करने के लिए

पालक में फैट और कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है। साथ ही इसमें पर्याप्त मात्रा में फाइबर भी होता है इसलिए पालक का सेवन वजन कम करने के लिए फायदेमंद होता है।

यह भी पढ़े – मुनक्के खाने के फायदे, मुनक्का भिगोकर खाने के फायदे

पालक के खाने के नुकसान

  • गठिया रोग में अधिक मात्रा में पालक का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • पालक में कैल्शियम की पर्याप्त मात्रा में होता है और कैल्शियम के अधिक सेवन से हृदय रोग हो सकता है।
  • इसमें फाइबर की मात्रा होती है, जिसके अत्यधिक सेवन से पेट फूलना, सूजन और पेट में ऐंठन हो सकती है।
  • जिन लोगों को किडनी संबंधी रोग हैं उन्हें पालक के सेवन से परहेज करने की सलाह दी जाती है। खासतौर पर किडनी स्टोन से पीड़ित लोगों को ऑक्सालेट और पोटैशियम से भरपूर पालक से दूर रहने की सलाह दी जाती है।
  • इसको किसी अन्य फाइबर युक्त पदार्थ के साथ खाने से शरीर में फाइबर की मात्रा बढ़ जाती है। जिससे बुखार, सिर दर्द की समस्या होने लगती है। यह दस्त का कारण भी बनता है।
  • पालक खाने से किडनी में स्टोन की समस्या हो सकती है। पालक में मौजूद कार्बनिक पदार्थ शरीर में यूरिक एसिड में परिवर्तित हो जाते हैं। यह शरीर के लिए बहुत हानिकारक होता है। नतीजतन, गुर्दे में छोटे से मध्यम आकार के स्टोन का निर्माण होता है।
  • पालक की अधिकता से किसी भी तरह की एलर्जी भी हो सकती है। जैसे गले में खुजली, जलन या शरीर में खुजली आदि।

यह भी पढ़े – सेंधा नमक खाने के लाभ – जाने सेंधा नमक के सेवन के अद्भुत स्वास्थ्य लाभ

अस्वीकरण – लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य के लिए हैं। 17Passion.com इसकी पुष्टि नहीं करता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले, कृपया संबंधित विशेषज्ञ से सलाह अवश्य लें।