माँ कालरात्रि, माता के सप्तम स्वरूप कालरात्रि का महत्व और शक्तियां

माँ कालरात्रि (Maa Kaalratri), को माता दुर्गा के नौ रूपों में सातवां स्वरूप माना जाता है। इसलिए कालरात्रि को सातवीं दुर्गा के रूप में पूजा जाता है। इन्हे देवी पार्वती के समकक्ष माना जाता है। देवी के नाम का अर्थ, काल का अर्थ है मृत्यु / समय और रात्री का अर्थ है रात। देवी के नाम का शाब्दिक अर्थ अंधकार का नाश करने वाला है।

माँ कालरात्रि (Maa Kaalratri), महत्व और शक्तियां

माँ कालरात्रि (Maa Kaalratri)
Maa Kaalratri

मां दुर्गा की सातवीं  शक्ति का नाम कालरात्रि है। देवी कालरात्रि श्याम रंग की हैं। देवी की चार भुजाएँ हैं, दोनों दाहिने हाथ क्रमशः अभय और वर मुद्रा में हैं, जबकि बाएँ दो हाथों में क्रमशः तलवार और खडग हैं। वे गधें की सवारी करती हैं।

मां कालरात्रि को लाल रंग प्रिय है। जहां तक ​​संभव हो, भक्त को पूजा के समय उसी रंग के कपड़े पहनने चाहिए।

सातवें दिन की पूजा में योगी का मन ‘सहस्रार’ चक्र में प्रविष्ट करता हैं। यह उनकी योग साधना का सातवां दिन होता है। इसके सिद्ध होने से समस्त विघ्न बाधाओं और पापों का नाश हो जाता है तथा साधक को अक्षय पुण्य लोक की प्राप्ति होती है।

महत्व 

मां कालरात्रि का स्वरूप देखने में तो बहुत डरावना है, इसलिए भक्तों को किसी भी तरह से घबराने या आतंकित होने की जरूरत नहीं है। लेकिन वह हमेशा शुभ फल देती हैं। इसलिए उनका एक नाम ‘शुभंकारी’ भी है। मां कालरात्रि दुष्टों का नाश करने वाली हैं। ये ग्रह बाधाओं को दूर करने वाले भी हैं।

दैत्य, दानव, भूत, प्रेत आदि उनको याद करने मात्र से ही भय से भाग जाते हैं। माँ के उपासकों को कभी भी अग्नि का भय, जल का भय, पशुओं का भय, शत्रुओं का भय, रात्रि का भय आदि नहीं होता। उनकी कृपा से वह पूर्णतः भयमुक्त हो जाता है।

कालरात्रि का मंत्र

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कालरात्रि संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥

मां को अपने हृदय में रखकर सच्चे मन से पूजा करनी चाहिए। उसे यम, नियम और संयम का कड़ाई से पालन करना चाहिए। मन, वाणी और शरीर की पवित्रता बनाए रखनी चाहिए। वह शुभंकरी देवी हैं। इनकी उपासना से प्राप्त शुभ फल की गणना नहीं की जा सकती। हमें उनका निरंतर स्मरण, ध्यान और आराधना करनी चाहिए।

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता। लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी।।वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा। वर्धन्मूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयन्करि।।

यह श्लोक सर्वसाधारण की पूजा करने के लिए सरल और स्पष्ट है। मां जगदम्बा की भक्ति प्राप्त करने के लिए नवरात्रि के सातवें दिन इसे कंठस्थ कर जप करना चाहिए।

माँ दुर्गा के अन्य स्वरुप

माता शैलपुत्री | माँ ब्रह्मचारिणी  |  माता चंद्रघंटा  |  कूष्माण्डा मातास्कंदमातामाता कात्यायनी | माता महागौरीमाता सिद्धिदात्री