दुर्गा माँ की भक्ति, माँ नवदुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की भक्ति के लाभ

दुर्गा माँ की भक्ति (Durga Maa Ki Bhakti), सनातन धर्म शास्त्रों के अनुसार नवदुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की भक्ति, ग्रहों के अशुभ प्रभाव से बचाकर, साथ ही बताए गए शुभ फल प्रदान करती है –

दुर्गा माँ की भक्ति (Durga Maa Ki Bhakti),

दुर्गा माँ की भक्ति (Durga Maa Ki Bhakti),

शैलपुत्री- सूर्य (सेहत, सफलता व प्रतिष्ठा)

चंद्रघंटा- केतु (आध्यात्मिक सुख)

कूष्माण्डा- चंद्रमा (मनोबल व मानसिक )

स्कन्दमाता- मंगल (दाम्पत्य, संतान व संपत्ति सुख)

कात्यायनी- बुध (बुद्धि, विवेक व कामयाबी)

महागौरी- गुरु (सुख, सौभाग्य, पद)

सिद्धिदात्री- शुक्र (दाम्पत्य सुख)

कालरात्रि- शनि (तन, मन व धन की पीड़ा व भाग्य बाधा खत्म होती हैं)

ब्रह्मचारिणी- राहु (तनाव, दरिद्रता व सारी मानसिक परेशानियां)

यह भी पढ़े –