चंद्र देव की आरती, अनिष्ट टालने के लिए चंद्रमा की आरती

चंद्र देव की आरती (Chandra Dev Ki Aarti): जीवन को सुखमय बनाने के लिए कई छोटे-मोटे टोटके बड़े काम आते हैं। इनका उपयोग करने पर उचित फल भी मिलता है। पर ध्यान रहे कि आपका उद्देश्य अच्छा हो

चंद्र देव की आरती (Chandra Dev Ki Aarti)

चंद्र देव की आरती
Chandra Dev Ki Aarti

अनिष्ट टालने के उपाय

  • किसी व्यक्ति के लिए तांत्रिक प्रयोग किया गया हो और वह इसके प्रभाव में कभी चिल्लाता हो, कभी बाल खींचता हो, तो उस व्यक्ति के तकिए के नीचे रात में सोने से पहले दूब रखें। सुबह उसके उठने के बाद उस दूब को नदी में प्रभावित कर दें। लगातार तीन दिन कर रात का रखा हुआ दूब सुबह नदी में -प्रवाहित करें। 
  • इसके बाद छह रात्रि तक सोने से पहले रात में तकिए के नीचे दूब रखें। और सुबह उसे एकत्रित करते रहें। सातवें दिन कोयला जलाकर (लकड़ी नहीं) छह दिन के रखे हुए दूब को जला दें। अब उसकी राख को नदी में प्रवाहित कर दें। इससे तांत्रिक प्रयोग का प्रवाह नष्ट होगा।
  • पूर्णिमा को चंद्रोदय होने पर तांबे के लोटे में, जल, कच्चा दूध और शक्कर डालकर चंद्रमा को अर्घ्य दें तथा दीप जलाकर चंद्रमा की आरती करें। इससे अनिष्ट टल जाता है तथा घर पर सुख-शांति रहती है।

पढ़ना जारी रखें

  • घर में अधिक झगड़े होते हों, तो परिवार के मुख्य लोग जहां सोएं, उनके पलंग के नीचे रात में एक लोटा पानी रख दें। सुबह उस पानी को पीपल के पेड़ में डाल दें। इससे लाभ होता है।
  • सोते समय सिर को पूर्व या दक्षिण की ओर करके ही सोना चाहिए। उत्तर की ओर सिर करके सोने से बुरे स्वप्न आते हैं। जैसे दिशा यंत्र में सुई उत्तर की ओर होती है, तब स्थिर हो जाती है। उसी तरह मस्तिष्क में धमनी नाड़ी होती है, जो तालु में लपका करती है। 
  • जब वह दोनों धुवों के बीच उत्तर में होती है। तब दिशा यंत्र की भांति ठहर जाती है। इस कारण मस्तिष्क में रोग होते हैं, जो कभी कभी भयानक होते हैं। इसलिए उत्तर की ओर सिर रखकर कभी नहीं सोना चाहिए।
  • सोने से पहले हाथ-पांव धोकर और कुल्ला करके सोना चाहिए। लेकिन गीले पैर करके कदापि न सोएं। सोने के कुछ समय पहले हाथ-पैर धो लेने चाहिए। इससे गहरी, नींद आती है और स्वप्न नहीं दिखते।
  • सूर्योदय तक न सोएं। तारागणों के छिपने से पहले उठ आएं। रात को मटके में रखे पानी का सेवन करके ही मलत्याग करें। इससे काया निरोग बनी रहेगी।

यह भी पढ़े – श्री कृष्ण स्तुति मंत्र, मंत्रों से करें श्रीकृष्ण का आह्वान

अस्वीकरण – लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य के लिए हैं। 17Passion.com इसकी पुष्टि नहीं करता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले, कृपया संबंधित विशेषज्ञ से सलाह अवश्य लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.