माँ सिद्धिदात्री, माता के नवम स्वरूप सिद्धिदात्री का महत्व और शक्तियां

माँ सिद्धिदात्री (Maa Siddhidatri), को माता दुर्गा के नौ रूपों में नौवां स्वरूप माना जाता है। इसलिए सिद्धिदात्री को नौवीं दुर्गा के रूप में पूजा जाता है। इनका साधक, माँ की कृपा से, अनंत दुख रूपी संसार से विरक्त होकर, सभी सुखों का भोग करके, मोक्ष प्राप्त कर सकता है। माँ सिद्धिदात्री (Maa Siddhidatri), महत्व… Continue reading माँ सिद्धिदात्री, माता के नवम स्वरूप सिद्धिदात्री का महत्व और शक्तियां

माँ महागौरी, माता के अष्टम स्वरूप महागौरी का महत्व और शक्तियां

माँ महागौरी (Maa Mahagauri), को माता दुर्गा के नौ रूपों में आठवां स्वरूप माना जाता है। इसलिए महागौरी को आठवीं दुर्गा के रूप में पूजा जाता है। माँ की शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायी है। इनकी पूजा और उपासना से पूर्व संचित पाप भी नष्ट हो जाते हैं। माँ महागौरी (Maa Mahagauri), महत्व और शक्तियां… Continue reading माँ महागौरी, माता के अष्टम स्वरूप महागौरी का महत्व और शक्तियां

माँ कालरात्रि, माता के सप्तम स्वरूप कालरात्रि का महत्व और शक्तियां

माँ कालरात्रि (Maa Kaalratri), को माता दुर्गा के नौ रूपों में सातवां स्वरूप माना जाता है। इसलिए कालरात्रि को सातवीं दुर्गा के रूप में पूजा जाता है। इन्हे देवी पार्वती के समकक्ष माना जाता है। देवी के नाम का अर्थ, काल का अर्थ है मृत्यु / समय और रात्री का अर्थ है रात। देवी के… Continue reading माँ कालरात्रि, माता के सप्तम स्वरूप कालरात्रि का महत्व और शक्तियां

माँ कात्यायनी, माता के षष्ठ स्वरूप कात्यायनी का महत्व और शक्तियां

माँ कात्यायनी (Maa Katyayani), को माता दुर्गा के नौ रूपों में छठवां स्वरूप माना जाता है। इसलिए कात्यायनी को छठवीं दुर्गा के रूप में पूजा जाता है। महर्षि कात्यायन की तपस्या से प्रसन्न होकर आदिशक्ति ने, पुत्री के रूप में उनके यहाँ जन्म लिया। इसलिए उन्हें कात्यायनी कहा जाता है। कात्यायनी शब्द का शाब्दिक अर्थ… Continue reading माँ कात्यायनी, माता के षष्ठ स्वरूप कात्यायनी का महत्व और शक्तियां

माँ स्कंदमाता, माता के पंचम स्वरूप स्कंदमाता का महत्व और शक्तियां

माँ स्कंदमाता (Maa Skandmata), को माता दुर्गा के नौ रूपों में पांचवा स्वरूप माना जाता है। इसलिए स्कंदमाता को पांचवीं दुर्गा के रूप में पूजा जाता है, स्कंदमाता आरम्भ का प्रतीक है, ज्ञान और क्रिया का स्रोत है। स्कंद सही व्यावहारिक ज्ञान और क्रिया के एक साथ होने का प्रतीक है। स्कंद तत्व देवी का… Continue reading माँ स्कंदमाता, माता के पंचम स्वरूप स्कंदमाता का महत्व और शक्तियां

माँ कूष्मांडा, माता के चतुर्थ स्वरूप कूष्मांडा का महत्व और शक्तियां

माँ कूष्मांडा (Maa Kushmanda), का माता दुर्गा के नौ रूपों में चौथा स्वरूप माना जाता है। इसलिए कूष्मांडा देवी को चौथी दुर्गा के रूप में पूजा जाता है, ब्रह्मांड की सभी वस्तुओं और प्राणियों में अवस्थित तेज इन्हीं की छाया है। माँ कूष्मांडा (Maa Kushmanda), महत्व और शक्तियां मां दुर्गा की चौथी शक्ति का नाम… Continue reading माँ कूष्मांडा, माता के चतुर्थ स्वरूप कूष्मांडा का महत्व और शक्तियां

वेदमाता गायत्री की साधना इस विधि से करें, माता हर मनोकामना करेंगीं पूर्ण

वेदमाता गायत्री की साधना (Vedmata Gayatri Ki Sadhana), वैदिक विधि विधान से आह्वान कर पूजा-अर्चना करने से बहुत लाभ होता है। वेदों में उल्लेख है कि गायत्री माता की पूजा किसी भी समय, किसी भी स्थिति में की जा सकती है। ब्रह्ममुहूर्त में स्नान आदि से निवृत्त होकर गायत्री मंदिर या घर के पूजा स्थल… Continue reading वेदमाता गायत्री की साधना इस विधि से करें, माता हर मनोकामना करेंगीं पूर्ण

माँ चंद्रघंटा, माता के तृतीय स्वरूप चंद्रघंटा का महत्व और शक्तियां

माँ चंद्रघंटा (Maa Chandraghanta), का माता दुर्गा के नौ रूपों में तीसरा स्वरूप माना जाता है। इसलिए चंद्रघंटा देवी को तृतीय दुर्गा के रूप में पूजा जाता है, मां दुर्गा की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्रि पूजा में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है। माँ चंद्रघंटा (Maa Chandraghanta), महत्व और शक्तियां… Continue reading माँ चंद्रघंटा, माता के तृतीय स्वरूप चंद्रघंटा का महत्व और शक्तियां

माँ ब्रह्मचारिणी, माता के द्वितीय स्वरूप ब्रह्मचारिणी का महत्व और शक्तियां

माँ ब्रह्मचारिणी (Maa Brahmacharini), का माता दुर्गा के नौ रूपों में दूसरा स्वरूप माना जाता है। इसलिए ब्रह्मचारिणी देवी को द्वितीय दुर्गा के रूप में पूजा जाता है। नवदुर्गाओं में यही दूसरी दुर्गा हैं। इस स्वरुप में माता ने भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए बिना अन्न और जल के 5000… Continue reading माँ ब्रह्मचारिणी, माता के द्वितीय स्वरूप ब्रह्मचारिणी का महत्व और शक्तियां

नवदुर्गा के 9 दिन, माँ दुर्गा के नौ रूप की पूजा, रहस्य और प्रभाव

नवदुर्गा के 9 दिन (Navdurga Ke 9 Din), माँ दुर्गा के नौ रूप की पूजा, रहस्य और प्रभाव, मान्यताओं की बात करें तो, बात बहुत बड़ी है कि नवदुर्गा 9 दिन, नवदुर्गा क्यों मनाते हैं ? माता नवदुर्गा के नौ रूप में ऐसी क्या बात है कि आदिकाल से ही सनातन धर्मी वर्ष में दो… Continue reading नवदुर्गा के 9 दिन, माँ दुर्गा के नौ रूप की पूजा, रहस्य और प्रभाव