जीवित्पुत्रिका व्रत, जानिए जितिया का महत्व और जिउतिया व्रत की कथा

जीवित्पुत्रिका व्रत (Jivitputrika Vrat), व्रत कथा और महत्वपूर्ण बातें – आज के दिन माताएं अपने बच्चों की लंबी उम्र के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। 3 दिनों तक चलने वाले इस व्रत को सबसे कठिन व्रतों में से एक माना जाता है। जीवित्पुत्रिका व्रत (Jivitputrika Vrat) और जिउतिया व्रत कथा जीवित्पुत्रिका व्रत क्या है ?… Continue reading जीवित्पुत्रिका व्रत, जानिए जितिया का महत्व और जिउतिया व्रत की कथा

आइये जाने, श्राद्ध क्या होता है और श्राद्ध कितने प्रकार के होते हैं ?

श्राद्ध कितने प्रकार के होते हैं (Shraddha Kitne Prakar Ke Hote Hain) ? पितरों का आशीर्वाद हम पर बना रहे इसलिए उनकी आत्मा की शांति के लिए, प्रतिवर्ष श्राद्ध पक्ष आता है, जिसके दौरान उनके लिए श्राद्ध तर्पण किया जाता है। मत्स्य पुराण के अनुसार मुख्य रूप से तीन प्रकार के श्राद्ध होते है, जिन्हें… Continue reading आइये जाने, श्राद्ध क्या होता है और श्राद्ध कितने प्रकार के होते हैं ?

आईये जाने, पितृ पक्ष क्या है और पितृ पक्ष का महत्व क्या है?

पितृ पक्ष क्या है (Pitru Paksha Kya Hai) ? भारतीय शास्त्रों के अनुसार मानव पर तीन प्रकार के ऋण होते हैं- पितृ ऋण, देव ऋण और ऋषि ऋण। इनमें से पितृ ऋण सर्वोपरि होता है। पितृ ऋण में पिता के अतिरिक्त माता तथा वे सभी बुजुर्ग भी शामिल हैं, जिन्होंने हमें अपने जीवन को चलाने… Continue reading आईये जाने, पितृ पक्ष क्या है और पितृ पक्ष का महत्व क्या है?

त्रिपिंडी श्राद्ध कब करें, त्रिपिंडी श्राद्ध के फायदे

त्रिपिंडी श्राद्ध कब करें (Tripindi Shraddha Kab Kare)? अगर आपकी कुंडली में पितृ दोष है तो, आपकी कुंडली में चाहे कितने भी अच्छे योग क्यों ना हों। आपका जीवन अत्यंत संघर्षमय और कष्ट पूर्ण हो जायेगा। धन हानि, संतान हीनता, नौकरी-व्यापार में असफलता, शुभ कार्यों में विलम्ब व पारिवारिक क्लेश बना रहता है। त्रिपिंडी श्राद्ध… Continue reading त्रिपिंडी श्राद्ध कब करें, त्रिपिंडी श्राद्ध के फायदे

जानिए, दुर्गा कुंड मंदिर वाराणसी का इतिहास और रहस्य

दुर्गा कुंड मंदिर वाराणसी (Durga Kund Mandir Varanasi), दुर्गा कुंड मंदिर वाराणसी के दिव्य और प्राचीन मंदिरों में से एक है। यह मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित है। नवरात्रि में इस मंदिर का महत्व और बढ़ जाता है। शारदीय नवरात्रि के चौथे दिन मां को कुष्मांडा माता के रूप में पूजा जाता है। दुर्गा कुंड… Continue reading जानिए, दुर्गा कुंड मंदिर वाराणसी का इतिहास और रहस्य

तुलसी मानस मंदिर वाराणसी, श्री सत्यनारायण तुलसी मानस मंदिर वाराणसी

तुलसी मानस मंदिर वाराणसी (Tulsi Manas Mandir Varanasi), तुलसी मानस मंदिर बनारस के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यह हिंदू धर्म में ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व रखता है क्योंकि प्राचीन हिंदू महाकाव्य रामचरितमानस मूल रूप से यहां 16 वीं शताब्दी में कवि-संत, सुधारक और दार्शनिक गोस्वामी तुलसीदास द्वारा लिखी गयी थी। तुलसी मानस मंदिर… Continue reading तुलसी मानस मंदिर वाराणसी, श्री सत्यनारायण तुलसी मानस मंदिर वाराणसी

संकट मोचन हनुमान मंदिर के बारे में जानकारी, संकट मोचन हनुमान मंदिर बनारस

संकट मोचन हनुमान मंदिर (Sankat Mochan Hanuman Mandir), बीएचयू के पास और वाराणसी कैंट रेलवे स्टेशन से लगभग 11 किमी की दूरी पर स्थित है। यह मंदिर दिखने में बेहद साधारण है पर मन की शांति पाने के लिए एक आदर्श मंदिर है। संकट मोचन हनुमान मंदिर (Sankat Mochan Hanuman Mandir) दुष्टों का नाश करने… Continue reading संकट मोचन हनुमान मंदिर के बारे में जानकारी, संकट मोचन हनुमान मंदिर बनारस