बिना तोड़फोड़ वास्तु उपाय, क्या है तोड़फोड़ रहित वास्तु समाधान

बिना तोड़फोड़ वास्तु उपाय (Bina Tod Fod Vastu Upay): आजकल बने बनाए फ्लैट कल्चर का चलन है, ऐसे में आप उसमें वास्तु के अनुकूल निर्माण की उम्मीद नहीं कर सकते। ऐसी स्थिति में यक्ष प्रश्न यह है कि क्या किया जाए ?

बिना तोड़फोड़ वास्तु उपाय (Bina Tod Fod Vastu Upay)

बिना तोड़फोड़ वास्तु उपाय
Bina Tod Fod Vastu Upay

हर व्यक्ति के लिए संभव नहीं होता कि वे बने बनाए घर को तोड़ कर वास्तु के अनुरूप बनवाएं। ऐसी परिस्थिति में वास्तु से संबंधित विविध साधनाओं की व्यवस्था है जिनके प्रयोग से आप गृह दोषों का निवारण कर सकते हैं और अपने घर की दशा और दिशा दोनों को बदल सकते हैं।

क्या है तोड़फोड़ रहित वास्तु समाधान?

  • वास्तु दोष को दूर करने के लिए वास्तु पुरुष साधना संपन्न करें अथवा विश्वकर्मा साधना या त्रिपुर सुंदरी साधना संपन्न करें। इससे वास्तु दोष दूर होता है।
  • यदि आप उपरोक्त साधनाओं से संबंधित मंत्र साधनाओं का स्वयं प्रयोग करें तो सबसे अच्छा होगा, यदि न कर पाएं तो किसी प्रामाणिक तांत्रिक से यंत्र सिद्ध करवाकर घर में स्थापित कर दें। इससे भी लाभ मिलता है।
  • इसके अलावा घर में पारद शिवलिंग की स्थापना करना भी समस्त दोषों का समाधान करता है। प्रामाणिक पारद शिवलिंग आप अपने विवेकानुसार किसी विश्वसनीय संस्थान से प्राप्त करें। फिर इसे अपने घर में स्थापित करवा दें।
  • रसोई घर में या जहां आप अन्न रखते हैं, वहां प्राण प्रतिष्ठित अन्नपूर्णा यंत्र लाल कपड़े में बांधकर लटकाएं या रखें। जो भी वास्तु संबंधी समस्याएं होगी वह दूर हो जाएगीं।
  • इसके अलावा आप चाहें तो भैरव यंत्र को लाल कपडे में बांधकर अपने घर के प्रवेश द्वार पर लगा सकते हैं या फिर ऐसी जगह पर रखें कि किसी व्यक्ति के घर में प्रवेश करते ही उसकी नजर सबसे पहले उस यंत्र पर ही पड़े। ऐसा करना आपके घर तथा घर के लोगों को बुरी नजर से बचाने में सहायक होगा।
  • यदि घर का वास्तु सही नहीं हो तो हर कोई परेशान रहता है। क्योंकि वास्तु सम्मत घर आपके लिए स्वास्थ्य से लेकर समृद्धि तक सब कुछ प्राप्त करने में सहायक होता है।

आवश्यक निर्देष

  • अगर आप घर बनावा रहे हो तो नींव खोदते समय हड्डी मिले तो उसे पूरी तरह निकालकर जल में विसर्जित करें तथा भूमि में गंगाजल आदि डालकर पवित्र कर लें। फिर इसके बाद नींव का काम प्रारंभ करें।
  • नींव खोदते समय तांबे से बना सर्प शेषनाग तथा चांदी से बना कछुआ भगवान विष्णु के प्रतीक रूप में डालना चाहिए।
  • सोना या सोने की मूर्ति यदि नींव में न डालें तो श्रेष्ठ होगा, क्योंकि यह समृद्धि को नष्ट करता है। अपवाद स्वरूप अपने गुरु द्वारा प्रदत्त या फिर किसी श्रेष्ठ तांत्रिक द्वारा किसी खास प्रयोजन के लिए दिए गए सोने के उपकरण डाले जा सकते है। लेकिन इस प्रयोग को करने से पहले किसी विशेष से जरूर सलाह लें।
  • कुछ लोग नींव डालते समय चांदी की मूर्ति भी जमीन में देते हैं। लेकिन इनके स्थान पर संबंधित देवता का यंत्र सिद्ध करके डालना ज्यादा लाभप्रद माना जाता है।
  • गृह पूजन में वास्तु पुरुष पूजन के साथ-साथ क्षेत्रपाल व भैरव पूजन करवाना भी लाभप्रद होता है। घर में जो भी बाधाएं हो इससे दूर होता है। साथ ही वास्तु पूजन के द्वारा आपका घर ज्यादा शांत तथा अनुकूल बन सकेगा और दैवीय कृपा की प्राप्ति हो सकेगी। इस तरह आप भी बिना तोड़ फोड़ किए अपने घर की वास्तु को दूर कर सकते हैं। लेकिन किसी भी तरह का यंत्र स्थापित करने से पहले किसी जानकार से जरूर सलाह लें और यंत्र को सिद्ध करने के बाद ही घर में रखें।

यह भी पढ़े – वास्तु शास्त्र के अनुसार जमीन, भूखंडों पर वास्तु का क्या है प्रभाव?

अस्वीकरण – लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य के लिए हैं। 17Passion इसकी पुष्टि नहीं करता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले, कृपया संबंधित विशेषज्ञ से सलाह अवश्य लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.