अपने करियर की शुरुआत कैसे करें? लक्ष्य को हासिल करने के आसान उपाय

अपने करियर की शुरुआत कैसे करें (Apne Career Ki Shuruat Kaise Kare)? कॅरिअर में आगे बढ़ने के लिए स्पष्ट लक्ष्य बना लें। इन्हें हासिल करने के लिए मजबूत नेटवर्क, पॉजिटिव सोच, प्रोडक्टिव आउटपुट, मेंटर के साथ कॅरिअर को शुरू करने जैसी कुछ बातों पर ध्यान दें। हार्वर्ड बिजनेस रिव्यू ने मैनेजमेंट सब्जेक्ट्स के माध्यम से शिखर तक पहुंचने के कुछ टिप्स सुझाएं हैं-

अपने करियर की शुरुआत कैसे करें (Apne Career Ki Shuruat Kaise Kare)?

अपने करियर की शुरुआत कैसे करें (Apne Career Ki Shuruat Kaise Kare)?

कम अनुभवी मेंटर के साथ कॅरिअर शुरू करें

किसी अनुभवी मेंटर के साथ ही अपने कॅरिअर की शुरुआत न करें। क्योंकि यह जरूरी नहीं कि एक अनुभवी मेंटर आपको काम के बारे में सही जानकारी दे सके। कुछ मेंटर ज्यादा अनुभव मिलने के बाद लोगों से मिलना-जुलना छोड़ देते हैं। जिसका आपको नुकसान हो सकता है। इसलिए अपने कॅरिअर की शुरुआत कम अनुभवी मेंटर से करें। वे आपको प्रैक्टिकल नॉलेज और एडवाइस दोनों देंगे।

(स्रोत- हार्वर्ड बिजनेस रिव्यू ‘गाइड टू गेटिंग द मेंटरिंग यू नीड’)

तीन नेटवर्क बनाएं

सफलता के लिए तीन नेटवर्क जरूरी हैं। जबकि ज्यादातर लोग एक ही नेटवर्क पर फोकस करते हैं। अच्छे रिजल्ट के लिए तीनों नेटवर्क को डेवलप करें।

1. ऑपरेशनल नेटवर्क आज के लिए हैं। इसमें उन सभी लोगों को रखें जिन पर आप अपने काम के लिए निर्भर कर सकते हैं। इसमें करीबी लोगों को लिया जा सकता है।

2. डेवलपमेंटल नेटवर्क में अपने विश्वसनीय लोगों को रखें। उनसे आप सुझाव भी ले सकते हैं। कुछ ऐसे लोगों को चुनें जो आपकी सोच को बदलने की क्षमता रखते हों।

3. स्ट्रेटेजिक नेटवर्क भविष्य के लिए है। यह आपको आने वाली सफलताओं के लिए तैयार करता है। इस नेटवर्क में उन लोगों को शामिल करें जो आने वाले समय में आपकी मदद करेंगे।

(स्रोत- ‘द थ्री नेटवर्क्‍स यू नीड’ बाय लिंडा हिल और केंट लाइनबैक)

धारणा न बनाएं बातचीत करें

दफ्तर में तनाव होना आम बात है। मुश्किलों के बाद भी प्रोडक्टिव आउटपुट देने की कोशिश करें। अच्छे नतीजों तक पहुंचने के तीन तरीके अपनाएं-

आप जानते हैं कि समस्याएं ज्यादा हैं। कुछ और मुश्किलें भी आ सकती हैं। इसलिए यह न देखें कि आप कौन हैं और कहां पर हैं। बल्कि दूसरों की बात सुनें, समझें और फिर रिएक्ट करें।

आप ये नहीं जानते कि दूसरा व्यक्ति क्या सोच रहा है। इसलिए कोई धारणा न बनाएं। दूसरे व्यक्ति से बातचीत करके उसके विचारों को जानने की कोशिश करें।

बिजनेस में किसी तरह की बहस को जंग न समझें। हार-जीत का फैसला करने की बजाय दूसरे व्यक्ति को बेहतर ढंग से समझें।

(स्रोत- ‘डिफिकल्ट कन्वर्सेशन, नाइन कॉमन मिसटेक’ बाय हौली वीक्स)

टैलेंट के लिए सफलता आसान

हर क्षेत्र में आर्टिफिशियल टैलेंट की बजाय नेचुरल टैलेंट को पसंद किया जाता है। इसलिए अपने काम और व्यवहार में नेचुरल रहें। सफलता के लिए जरूरी नहीं कि आप कौन हैं लेकिन यह जरूरी है कि आप क्या कर रहे हैं। ध्यान रखें-

स्पेसिफिक गोल बनाएं

यह न कहें कि आप अपनी अलमारी को हफ्ते में तीन दिन साफ करेंगे। बल्कि अपने कैलेंडर में तीन दिन मार्क कर लें जब आप अलमारी की सफाई करेंगे। इसी तरह से अपने काम के लिए स्पेसिफिक गोल बनाएं।

जो करना है उस पर ध्यान दें

आप अपने गुस्से से परेशान हैं और इस आदत को बदलना चाहते हैं। तो इस बात पर फोकस करें कि अगली बार गुस्सा आने पर आप किस तरह से खुद पर काबू रखेंगे।

(स्रोत-‘नाइन थिंग्स सक्सेसफुल पीपुल डू डिफ्रेंटली’ बाय हेडी ग्रांट हैल्वोरसन)

जरूरी चीजों पर ध्यान दें

पहले मैनेजर्स परफॉर्मेस रिव्यू, प्लान या स्ट्रेटेजी पर फोकस करते थे। लेकिन अब कस्टमर, ऑपरेशंस, मार्केट, कंपिटीटर डाटा पर ध्यान देते हैं। इन तीन तरीकों से डाटा को सही तरीके से मैनेज किया जा सकता है।

सब कुछ सीखने की बजाय उन्हीं चीजों पर ध्यान दें जो आगे बढ़ने में मददगार साबित हो। इससे काम में आसानी होगी और नतीजे भी अच्छे मिलेंगे।

किसी एक व्यक्ति की बात को अंतिम सच न समझ लें। एक बात या घटना को लेकर हर व्यक्ति का अपना नजरिया होता है। इसलिए दिमाग से काम लें।

डाटा को सही तरीके से समझने के लिए टीम की मदद लें। डाटा में बदलते ट्रेंड्स पर उनकी राय भी जानें।

(स्रोत- ‘मैनेजिंग द इन्फॉर्मेशन इवलांचे’ बाय रोन अशकेनास) 

यह भी पढ़े –