अन्नपूर्णा मंदिर काशी, अन्नपूर्णा मंदिर का इतिहास, महत्व और कहानी

अन्नपूर्णा मंदिर काशी (Annapurna Mandir Kashi), काशी विश्वनाथ मंदिर से कुछ ही दूरी पर बनारस में माता अन्नपूर्णा का मंदिर है। अन्नपूर्णा को तीनों लोकों में अन्न की जननी कहा जाता है।

अन्नपूर्णा मंदिर काशी (Annapurna Mandir Kashi)

अन्नपूर्णा मंदिर काशी (Annapurna Mandir Kashi)

इतिहास और महत्व

माता अन्नपूर्णा को हिंदू “पौराणिक कथाओं” में भोजन और धन की देवी के रूप में उल्लेख किया गया है। काशी विश्वनाथ मंदिर से कुछ ही दूरी पर बनारस में माता अन्नपूर्णा का मंदिर है। अन्नपूर्णा को तीनों लोकों में अन्न की जननी कहा जाता है। कहा जाता है कि उन्होंने स्वयं भगवान शिव को भोजन कराया था।

अन्नपूर्णे सदापूर्णे शंकरः प्राणवल्लभे । ज्ञान वैराग्य सिद्ध्यर्थं भिक्षां देहि च पार्वती ।।

माना जाता है कि अन्नपूर्णा मंदिर वाराणसी का निर्माण पेशवा बाजी राव ने 1700 के दशक में करवाया था।

अन्नकूट पर्व पर एक दिन भक्तों द्वारा मां अन्नपूर्णा की स्वर्ण प्रतिमा के दर्शन किए जाते हैं।

वर्ष में एक दिन खुलने वाले स्वर्ण प्रतिमा का मंदिर कई सौ साल पुराना है। मंदिर के भीतर, अन्नादात्री की ठोस सोने की मूर्ति कमलासन पर विराजमान है और चांदी की शिल्प में ढ़ले भगवान शिव की थैली में भोजन दान कर रही है। माँ अन्नपूर्णा के दाहिनी ओर माँ लक्ष्मी की स्वर्ण विग्रह और बायीं ओर भूदेवी है। सिंहासन का शिखर और मूर्तियाँ लगभग साढ़े पाँच फीट की हैं। ऐसी मूर्ति और भव्य दरबार शायद ही कहीं और देखने को मिले।

अन्नपूर्णा देवी का संबंध उज्जैन के हरसिद्धि मंदिर से भी माना जाता है। आदि शंकराचार्य ने अन्नपूर्णा मंदिर में अन्नपूर्णा स्तोत्र की रचना की तथा ज्ञान और वैराग्य प्राप्त करने की कामना की।

काशी खंड में कहा गया है कि चैत्र मास, शुक्ल पक्ष अष्टमी में भक्तों को भवानी [अन्नपूर्णा] 108 बार प्रसारित करनी चाहिए। ऐसा करने से भक्तों को सभी पहाड़ों, समुद्रों, दिव्य आश्रमों, पूरी भूमि और पूरी दुनिया की परिक्रमा करने का लाभ मिलेगा।

अन्नपूर्णा मंदिर के प्रांगण के भीतर कुछ मूर्तियाँ स्थापित हैं, जिनमें देवी काली, शंकर पार्वती और भगवान नरसिंह का मंदिर है।

मंदिर की कहानी

इस मंदिर से जुड़ी एक प्राचीन कथा यहां बेहद लोकप्रिय है। कहा जाता है कि जब काशी में अकाल पड़ा तो चारों ओर तबाही मची हुई थी और लोग भूखे मर रहे थे। उस समय महादेव को भी समझ नहीं आया कि अब क्या करें? ऐसे में वह इस समस्या के समाधान हेतु ध्यानमग्न हो गए, फिर उन्हें माँ अन्नपूर्णा का ध्यान आया और उन्हें लगा की बस वह ही काशी को बचा सकती हैं।

इस कार्य की सिद्धि के लिए भगवान शिव ने स्वयं मां अन्नपूर्णा के पास जाकर भिक्षा मांगी। उसी क्षण मां ने महादेव को वचन दिया कि आज से काशी में कोई भूखा नहीं रहेगा और खजाना मिलते ही लोगों के दुख दूर हो जाएंगे। तभी से अन्नकूट के दिन उनके दर्शन के समय खजाना भी बांटा जाता है। जिसके बारे में यह प्रसिद्ध है कि इस खजाने को पाने वाले कभी भी कमी में नहीं रहते।

यदि भक्तों को काशी में किसी भी प्रकार की कठिनाई का सामना करना पड़ता है, तो उन्हें माँ अन्नपूर्णा की पूजा करनी चाहिए और वे सभी बाधाएं दूर कर उन भक्तों को समृद्धि प्रदान करती हैं। काशी खंड ने भवानी की महानता का वर्णन किया है।

काशी दुनिया का सबसे शुभ और कीमती स्थान है तथा यह सबसे पुराने शहरों में से एक है। यह दुनिया पर हमेशा और लगातार जीवित बना हुआ है, यहां कई प्रकार के ऐसे जीवित प्राणी हैं जो इसके अस्तित्व से है।

यह भी पढ़े –