आजीविका का मतलब, आजीविका प्राप्ति के मंत्र

आजीविका का मतलब (Aajivika Ka Matlab), हर किसी को अपना जीवन जीने के लिए कुछ न कुछ काम करके धन कमाना पड़ता है। जिससे उसके प्रतिदिन के जीने खाने का ख़र्चा निकल सके। उसी को उसकी आजीविका या रोजगार या करिअर (Career) कहते हैं।

आजीविका का मतलब(Aajivika Ka Matlab)

आजीविका का मतलब, आजीविका प्राप्ति के मंत्र

जैसे – डाक्टर, इंजिनीयर, वकील, नौकरी, मज़दूरी, स्वरोजगार इत्यादि, ये समाज की कुछ प्रमुख़ आजीविकायें हैं।

हममें से प्रत्येक व्यक्ति को किसी न किसी स्तर पर अपना जीवन जीने के लिये आजीविका का साधन चुनना पड़ता है।

आजीविका प्राप्ति के मंत्र

प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में कभी न कभी ऐसा वक़्त जरूर आता है, जब उसे अपनी जीविका चलाने के लिए मुश्किल दौर से गुज़रना पड़ता है। और हर संभव उपाय के बाद भी समस्या का समाधान नहीं समझ आता है कि आख़िर क्या बात है, की नौकरी मिलती क्यों नहीं ? किसी के पास अगर कोई योग्यता न हो तो बात समझ आती है, पर अगर आपके पास सम्पूर्ण डिग्री और योग्यता होने के बावजूद भी अगर नौकरी की तलाश पूरी नहीं हो पा रही है या नौकरी खोने का भय है तो –

श्रीरामचरितमानस का एक बेहद सरल मंत्र बहुत कारगर साबित हो सकता है। इस मंत्र के बारे में ऐसी मान्यता है कि मंत्र को बोलकर जपने से या मानसिक जाप करने से मंत्र जाप करने वालो का कल्याण होता है। मंत्र इस तरह है:

बिस्व भरन पोषन कर जोई।
ताकर नाम भरत अस होई॥

यह चौपाई श्रीरामचरितमानस के ‘बालकांड’ से ली गयी है। यह प्रसंग दशरथ के पुत्रों के नामकरण के समय का है।  जिसका अर्थ है, ‘जो संसार का भरण-पोषण करते हैं, उनका नाम ‘भरत’ होगा। दशरथ के द्वितीय पुत्र तथा श्रीराम के अनुज भरत का नाम लेना या स्मरण करना आजीविका की समस्या को दूर करने में मददगार साबित हो सकता है।

आजीविका प्राप्ति के लिये मन्त्र प्रयोग

आज बेरोज़गारी सुरसा की तरह मुँह बाए ख़ड़ी है। जिसका कोई समाधान होता नहीं दिख रहा है। और ये दिनों दिन हमारे देश के युवाओं को अपनी चपेट में लेती जा रही है। अब ऐसे में अगर कोई साधना की तरफ आके अपनी समस्या का समाधान ढूंढ़ता है तो, उनके लिए माँ काली का अचूक मन्त्र प्रयोग प्रस्तुत है। यह माता काली की अति शक्तिशाली अचूक साधना है।

इस साधना के बारे में प्रचलित है की अगर यह साधना पूर्ण श्रद्धा और विश्वास से की जाय तो साधना करने वाले साधक को एक निश्चित समय में अजीविका क़ी प्राप्ति अवश्य हो जाती है।

मंत्र :- ॐ नमो काली कंकाली महाकाली मुख सुन्दर जिह्वा वाली,
चार वीर भैरों चौरासी,चार बत्ती पूजूं पान ए मिठाई,
अब बोलो काली क़ी दुहाई।

उपरोक्त मन्त्र का प्रतिदिन तीस मिनट तक जप करने से आजीविका की प्राप्ति एवं सभी प्रकार के आर्थिक संकट दूर होते है तथा जीवन मे धन से सम्बन्धित कोई भी परेशानी नहीं रहती। यह अनेको बार का आज़माया हुआ मन्त्र है। 15 दिन में एक बार किसी भी मंगलवार या शुक्रवार के दिन माँ काली को मीठा पान एवं मिष्टान का भोग अवश्य लगाएं। माँ काली की कृपा होती है, तो असंभव काम भी संभव हो जाते है।

यह भी पढ़े –